महाराष्ट्र कांग्रेस आगामी विधानसभा चुनावों के लिए महायुदी महिला नकद योजना का बड़े पैमाने पर मुकाबला करने की योजना बना रही है


ऐप में आगे पढ़ें

महाराष्ट्र समाचार: महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव अभी काफी दूर हैं, लेकिन महिला मतदाताओं को लुभाने की कोशिशें शुरू हो चुकी हैं। हाल ही में बीजेपी के नेतृत्व वाली महायुदी गठबंधन सरकार ने महिलाओं को 1500 रुपये प्रति माह देने का वादा किया है. वहीं, महाविकास अकादमी ने अब इसका सामना करने की तैयारी कर ली है. सूत्रों के मुताबिक, अगर एमवीए सत्ता में आई तो महिलाओं को अधिक मासिक भुगतान किया जाएगा। गौरतलब है कि हालिया लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद महायुदी गठबंधन सरकार ने महिलाओं के लिए वजीफा देने की घोषणा की थी. माना जाता है कि लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान महिला मतदाता कांग्रेस के ‘महल लक्ष्मी’ कार्यक्रम से आकर्षित हुईं। इसीलिए महायुदी गठबंधन को महिलाओं का उतना वोट नहीं मिला. अब महायुदी गठबंधन इन वोटरों को फिर से अपने पाले में लाने की योजना बनाने में जुटा है.

दरअसल, कांग्रेस ने महाराष्ट्र में ऐसा सबक सीखा. इधर, चुनाव से पहले कांग्रेस नेता कमल नाथ ने घोषणा की थी कि अगर वह सत्ता में आए तो महिलाओं को 1500 रुपये प्रति माह दिए जाएंगे. इसके बाद मध्य प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने महिलाओं के लिए 1000 रुपये बढ़ाकर 1250 रुपये कर दिए. इसके अलावा उन्होंने यह भी ऐलान किया कि अगर बीजेपी दोबारा चुनाव जीतती है तो यह रकम बढ़ाकर 1500 रुपये कर दी जाएगी. फिर बीजेपी ने भी जीत हासिल की और कांग्रेस को सबक सिखाया.

अब कांग्रेस का कहना है कि सरकार द्वारा महाराष्ट्र में कैश ट्रांसफर योजना की घोषणा गलत कदम है. टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक, कांग्रेस नेताओं का कहना है कि चुनाव करीब हैं और महायुदी ने महिलाओं को दी जाने वाली रकम तय कर दी है. हम इसका उपयोग आगामी चुनावों में महिलाओं के लिए अधिक धन की घोषणा करने के लिए करेंगे। कांग्रेस नेता ने कहा, इसके अलावा लोकसभा चुनाव ने लोगों के मूड के बारे में भी बड़ा संकेत दिया है. यह कांग्रेस के प्रति लोगों की बढ़ती रुचि को दर्शाता है. उन्होंने कहा कि बीजेपी को कोई फायदा नहीं होने वाला है.

गौरतलब है कि हाल के चुनावों में महिलाओं के लिए नकदी वितरण योजनाओं ने अच्छा काम किया है। मध्य प्रदेश में बीजेपी ने ‘लाडली ब्राह्मण’ कार्यक्रम के जरिए एक बड़ी मिसाल कायम की है. इसके बाद कांग्रेस ने भी यही ट्रेंड अपनाया. हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक और तेलंगाना के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस इस योजना के आधार पर महिला मतदाताओं को अपने पाले में करने में सफल रही है। अब वह इसे महाराष्ट्र में भी दोहराने की योजना बना रही है.

Leave a Comment